अमेठी में कांग्रेस ने समाप्त की प्रत्याशी की सस्पेंस, स्मृति ईरानी के खिलाफ किशोरी लाल शर्मा को उतारा

किशोरी लाल शर्मा

अमेठी लोकसभा सीट पर कई महीनों की अटकलों के बाद, कांग्रेस ने अपने प्रत्याशी के रूप में गांधी परिवार के निष्ठावान किशोरी लाल शर्मा का नाम घोषित कर दिया है। उन्होंने बीजेपी की स्मृति ईरानी के खिलाफ चुनाव लड़ने के लिए तैयार किया है, जो वर्तमान में अमेठी की सांसद हैं। अमेठी लोकसभा चुनाव की तारीख 20 मई को पांचवें चरण में निर्धारित की गई है।

अमेठी लोकसभा सीट कांग्रेस के लिए एक प्रतिष्ठित सीट है क्योंकि यह पार्टी के पास 1967 से है जब यह पहली बार चुनाव में गई थी। दो छोटे कार्यकालों (1977-80 और 1998-99) को छोड़कर, यह सीट ग्रैंड ओल्ड पार्टी के पास रही जब तक कि भाजपा की स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी से यह सीट छीन नहीं ली। ईरानी ने पहले राहुल गांधी को केवल अमेठी सीट से चुनाव लड़ने की चुनौती दी थी यदि उन्हें आत्मविश्वास हो। हालांकि, कांग्रेस ने पहले राहुल गांधी को केरल के वायनाड से उतारा, यह कहकर कि यह क्षेत्र संकट के समय उनके साथ खड़ा है और वे वहां के लोगों को नहीं छोड़ेंगे।

किशोरी लाल शर्मा ने तुरंत इस विकास पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

हालांकि, 1977-80 और 1998-99 के दो संक्षिप्त अवधि को छोड़कर, यह सीट लंबे समय तक कांग्रेस के नियंत्रण में रही थी। 2019 में, स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी को हराकर यह सीट जीती थी, जो तीन कार्यकालों से अमेठी के सांसद थे। राहुल गांधी के लिए यह हार एक बड़ा झटका था, क्योंकि यह सीट गांधी परिवार के प्रभाव की प्रमुख प्रतीक रही है।

किशोरी लाल शर्मा एक अनुभवी राजनेता हैं, जिन्होंने बिहार और पंजाब प्रदेश कांग्रेस समितियों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उनके नेतृत्व और राजनीतिक प्रबंधन कौशल के कारण, उन्होंने कई बार कांग्रेस के लिए चुनाव अभियान का प्रबंधन किया है। उन्होंने राजीव गांधी के साथ कई रैलियों में भाग लिया है और जब सोनिया गांधी ने 1999 में चुनावी राजनीति में प्रवेश किया, तो उन्होंने उनका समर्थन किया।

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शर्मा के नामांकन की सराहना की है, क्योंकि वे एक ऐसे व्यक्ति हैं जो पार्टी के आदर्शों के प्रति वफादार रहे हैं और गांधी परिवार के प्रति प्रतिबद्ध हैं। उनकी उपस्थिति से कांग्रेस को अमेठी में फिर से अपनी स्थिति मजबूत करने का अवसर मिलेगा। कार्यकर्ताओं को उम्मीद है कि शर्मा की मौजूदगी से स्थानीय मतदाताओं को पार्टी के प्रति फिर से प्रेरित किया जाएगा।

हालांकि, अमेठी में चुनावी मुकाबला एक चुनौतीपूर्ण होगा। स्मृति ईरानी की जीत ने बीजेपी के प्रभाव को बढ़ाया है, और वह एक मजबूत उम्मीदवार के रूप में देखी जाती हैं। उन्होंने अमेठी में अपनी पकड़ को मजबूत किया है और पिछले कार्यकाल के दौरान क्षेत्र में कई विकास कार्य किए हैं।

राहुल गांधी की वापसी की उम्मीदों के बीच, कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच निराशा थी कि उन्होंने वायनाड से चुनाव लड़ने का फैसला किया। हालांकि, किशोरी लाल शर्मा के नामांकन ने कार्यकर्ताओं को नई उम्मीद दी है कि पार्टी अमेठी में अपनी खोई हुई जमीन को वापस पा सकती है।

किशोरी लाल शर्मा की चुनावी रणनीति में स्थानीय मुद्दों पर ध्यान देना महत्वपूर्ण होगा। उन्होंने पिछले कई सालों में गांधी परिवार के साथ काम करते हुए अमेठी की ज़रूरतों को करीब से देखा है। शर्मा को किसानों, युवाओं, महिलाओं, और अन्य समुदायों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए अपनी रणनीति बनानी होगी।

इसके साथ ही, उन्हें कांग्रेस के विकास कार्यों और योजनाओं को उजागर करना होगा, ताकि मतदाता पार्टी के प्रति विश्वास महसूस कर सकें। किशोरी लाल शर्मा को स्थानीय नेताओं और कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर काम करना होगा ताकि वे क्षेत्र में एक मजबूत संगठन बना सकें।

वहीं, स्मृति ईरानी ने भी अपनी रणनीति को बढ़ाया है और अपने विकास कार्यों के बल पर मतदाताओं का समर्थन प्राप्त करने का प्रयास कर रही हैं। उनकी लोकप्रियता ने उन्हें एक मजबूत प्रत्याशी बना दिया है, और उन्हें चुनौती देना शर्मा के लिए कठिन हो सकता है।

अमेठी के मतदाता पारंपरिक रूप से कांग्रेस के समर्थक रहे हैं, लेकिन पिछले चुनाव में बीजेपी की जीत ने यहां की राजनीति में एक नया मोड़ लाया है। इसलिए, किशोरी लाल शर्मा को मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए एक संतुलित और प्रभावी चुनाव अभियान की जरूरत होगी।

स्मृति ईरानी ने 2014 में राहुल गांधी को 55,000 वोटों के अंतर से हराया। गांधी ने 2004-19 से तीन कार्यकाल के लिए इस सीट पर कब्जा बनाए रखा। हालांकि, राहुल गांधी ने वायनाड सीट जीतकर अपनी लोकसभा सदस्यता को सुरक्षित रखा।

इस साल, यह व्यापक रूप से अनुमान लगाया गया था कि राहुल गांधी इस सीट को फिर से हासिल करने के लिए वापस लौटेंगे। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने चाहा था कि राहुल गांधी अमेठी सीट से चुनाव लड़ें और प्रियंका गांधी रायबरेली सीट से दावेदारी करें। हालांकि, उन दोनों के यूपी से चुनाव लड़ने के लिए अनिच्छुक होने की आशंका जताई गई थी। पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष और उनकी मां सोनिया गांधी ने कहा जाता है कि उन्होंने दोनों को मनाने के लिए हस्तक्षेप किया।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि यदि राहुल और प्रियंका इन दो यूपी सीटों से चुनाव लड़ने का निर्णय नहीं लेते हैं, तो यह कांग्रेस कार्यकर्ताओं के लिए निराशाजनक होगा।

हालांकि, शुक्रवार की घोषणा के साथ, प्रियंका गांधी ने यह स्पष्ट कर दिया है कि वह चुनावों में भाग नहीं लेंगी। जमीन पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कहा कि वे इस फैसले से “खुश” हैं।

 

 

किशोरी लाल शर्मा कौन हैं?

किशोरी लाल शर्मा गांधी परिवार के निष्ठावान हैं और पंजाब के लुधियाना के रहने वाले हैं। उन्होंने बिहार और पंजाब प्रदेश कांग्रेस समितियों में कार्य किया है। वे एआईसीसी के मामलों को संभालने के लिए जाने जाते हैं जब सोनिया गांधी अनुपस्थित थीं।

वह रायबरेली और अमेठी दोनों में एक मजबूत राजनीतिक व्यक्ति हैं, जहां उन्होंने राजीव गांधी के रैलियों के दौरान उनका साथ दिया। उन्होंने कांग्रेस के कई चुनावों के प्रबंधन की देखरेख की है। जब सोनिया गांधी 1999 में चुनाव में उतरीं, तो उन्होंने उनका मजबूत समर्थन किया।

किशोरी लाल शर्मा 3 मई, शुक्रवार को लोकसभा चुनावों के लिए राहुल गांधी के साथ अपनी नामांकन दाखिल करेंगे।

 

कुल मिलाकर, अमेठी में आगामी चुनाव एक रोमांचक मुकाबला होगा जिसमें किशोरी लाल शर्मा और स्मृति ईरानी आमने-सामने होंगे। दोनों ही प्रत्याशी अपने-अपने अनुभव और प्रभाव के आधार पर मतदाताओं को प्रभावित करने का प्रयास करेंगे। अमेठी के परिणाम पर नजर रखने वाले लोग उत्सुक हैं कि इस चुनाव का नतीजा क्या होगा और इससे अमेठी की राजनीतिक दिशा किस दिशा में जाएगी।

Leave a Comment

Floating Icons